5 गलतियां जो दिमाग को कर देगी बिल्कुल कमजोर

आमतौर में व्यक्ति में भूलने की बीमारी या कमजोर याददाश्त की आदत बुढ़ापे में देखी जाती है

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

आमतौर में व्यक्ति में भूलने की बीमारी या कमजोर याददाश्त की आदत बुढ़ापे में देखी जाती है लेकिन कई बार आपके द्वारा की गई कुछ गलतियां भी आपके दिमाग की याददाश्त को कमजोर कर सकती है। जिसके कारण आप कई बार कुछ चीजें रख कर भूल जाते है या फिर काफी समय बाद आपको अपने काम की बात याद आती है। इसलिए अगर आप चाहते है कि आप की याददाश्त कमजोर न पड़े तो आप भूल कर भी ये गलतियां न करें।

नाश्ता न करना 

ऑफिस, स्कूल समय पर पहुंचने या काम को जल्दी करने के चक्कर में ज्यादातर लोग अपना सुबह का नाश्ता छोड़ देते है इससे आपके दिमाग पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है। नास्शा ने करने से आपके शरीर में मोटापा, कमजोर इम्यूनिटी, कमजोर याददाश्त, लो-ब्लड शुगर जैसी समस्याएं भी हो सकती है। इसलिए सुबह उठने के 3 घंटे के अंदर ही अपना नाश्ता कर लें। याद रखें कि नाश्ता थोड़ा हैवी और प्रोटीन से भरपूर हो ताकि पूरा दिन आपके शरीर में ऊर्जा बनी रहे।

पूरी नींद न लेना

एक स्वस्थ शरीर के लिए रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद लेना बहुत ही जरुरी होता है जब आप 6 घंटे से कम और 9 घंटे से अधिक नींद लेते है तो आपको दिमाग और मोटापे संबंधी कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है। जरुरत से ज्यादा या कम नींद लेने से आपके दिमाग की कोशिकाएं सिकुड़ने लगती है और आपके दिमाग की याद्दाशत कमजोर हो जाती है।

जरुरत से अधिक मीठा खाना

कुछ लोगों को मीठा खाना बहुत ही अधिक पसंद होता है लेकिन ज्यादा मात्रा में रिफाइंड शुगर खाना दिमाग के लिए नुक्सानदायक हो सकती है। अधिक शुगर खाने से शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा बढ़ती है और यह दिमाग की कार्यक्षमता को भी प्रभावित करता है। इससे शरीर में डिमेंशिया और अल्जाइमर का अधिक खतरा बढ़ जता है। इसलिए जरुरत से अदिक मीठा कभी भी मत खाएं।

धूम्रपान की आदत

धूम्रपानी की आदत न केवल फेफड़ों को बल्कि दिमाग की नसें सिकुड़ने का भी कारण बनती है। धूम्रपान करने से फेफड़ों को नुकसान पहुंचने के साथ सांस से जुड़ी कई तरह की गंभीर बीमारियां होती है। रिसर्च के अनुसार लंब समय तक स्मोकिंग करने से व्यक्ति की याद्दाशत कमजोर हो जाती है।

अधिक से ज्यादा भोजन का सेवन

अगर आप दोपहर और रात के समय में जरुरत से अधिक खाना खाते है तो इसका सीधा असर आपकी याद्दाशत पर पड़ता है क्योंकि ज्यादा खाना खाने से मेटाबॉलिज्म धीमा होता है जिससे आप सुस्त और आलसी बन जाते है। इसका सीधा असर आपके दिमाग पर पड़ता है। इसलिए हमेशा जितनी भूख लगी हो उतना खाएं या उससे थोड़ा कम खाएं ताकि आपके शरीर का मेटाबॉलिज्म सही बना रहे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

महिलाओं ने बाइक पर सवार होकर की 21 देशों की सफल यात्रा, कठिन चुनौतियों के बाद भी डिगा नहीं फैसला     |     CJI शरद अरविंद बोबडे ने कहा, बदले की भावना से किया गया इंसाफ न्‍याय नहीं     |     उन्नाव की बिटिया की मौत पर यूपी में सियासी बवाल, कांग्रेस ने घेरा भाजपा मुख्यालय; पुलिस ने फटकारी लाठी     |     दर्द से कराहती उन्नाव पीड़िता की हालत देख रो पड़े थे सारे डॉक्टर     |     SC पहुंचा हैदराबाद एनकाउंटर मामला, वकीलों ने पुलिस के खिलाफ दायर की याचिका     |     जिंदगी की जंग हार गई उन्नाव बलात्कार पीड़िता, आखिरी शब्द थे- बच तो जाऊंगी न, मरना नहीं चाहती     |     उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद भाई ने मांगा न्याय, कहा- बहन की तरह आरोपियों को भी जिंदा जलाओ     |     उन्नाव कांड: प्रियंका बोलीं- हमारी नाकामयाबी, पीड़िता को नहीं मिला न्याय     |     महिला डॉक्टर को 10 दिन में मिला इंसाफ, पिता बोले- अब मेरी बेटी की आत्मा को मिलेगी शांति     |     रामजन्मभूमि पर फैसले के खिलाफ मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड सुप्रीम कोर्ट में आज दाखिल करेगा रिव्यू पिटीशन     |