देश से भागे 51 घोटालेबाजों ने 17 हजार करोड़ से अधिक का चूना लगाया

देश छोड़कर भाग निकले 51 घोटालेबाजों ने 17 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की धोखाधड़ी की है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

नई दिल्ली। देश छोड़कर भाग निकले 51 घोटालेबाजों ने 17 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की धोखाधड़ी की है। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने मंगलवार को राज्यसभा में ‘भगोड़े आर्थिक अपराधियों’ पर एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी। इनमें विजय माल्‍या और नीरव मोदी जैसे भगोड़े भी शामिल हैं।

ठाकुर ने कहा कि सीबीआइ ने बताया है कि आज तक 66 मामलों में 51 फरार और भगोड़ा घोषित अपराधी अन्य देशों में भाग गए हैं। उन्होंने कहा, ‘सीबीआइ ने रिपोर्ट दी है कि इन मामलों में आरोपित व्यक्तियों द्वारा कुल लगभग 17,947.11 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की गई है।’ उनसे पूछा गया था कि इन घटनाओं में कितनी रियायतें दी गई थीं या कर्ज माफ किए गए थे।

ठाकुर ने कहा कि ईडी और सीबीआइ ने सक्षम अदालतों में इन मामलों के संबंध में आवेदन दायर किए और जांच अथवा दूसरी कार्रवाई जारी है। उन्होंने कहा कि सीबीआइ, घोषित अपराधियों और फरार लोगों के संबंध में 51 प्रत्यर्पण अनुरोध पर काम कर रही है, जो विभिन्न चरणों में लंबित हैं।

अन्य केंद्रीय एजेंसियों के बारे में बात करते हुए अनुराग ठाकुर ने बताया कि केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर बोर्ड और सीमा शुल्क विभाग (सीबीआईसी) ने छह भगोड़े आर्थिक अपराधियों के बारे में रिपोर्ट की है जो अवैध रूप से देश छोड़ गए हैं.

ठाकुर ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय ने भगोड़े आर्थिक अपराधी अधिनियम, 2018 के तहत सक्षम अदालत में 10 व्यक्तियों के खिलाफ आवेदन दायर किये हैं। आठ व्यक्तियों के लिए प्रवर्तन निदेशालय द्वारा भेजे गए प्रत्यर्पण अनुरोधों के संबंध में, इंटरपोल द्वारा रेड-कॉर्नर नोटिस भी प्रकाशित किए गए हैं।

मनी लांड्रिंग में अब तक 13 दोषी

ठाकुर ने एक अन्य प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि 14 वर्ष पहले लागू किये गए मनी लांड्रिग रोधी कानून के तहत 13 लोगों को दोषी ठहराया गया है। उन्होंने बताया कि इस साल अक्टूबर तक धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत अदालतों के समक्ष कुल 694 अभियोजन शिकायतें या आरोप पत्र दायर किए गए हैं। अब तक, नौ मामलों में 13 लोगों को पीएमएलए के विशेष अदालतों द्वारा दोषी ठहराया गया है। पीएमएलए को वर्ष 2002 में लाया गया था और इसे वर्ष 2005 से लागू किया गया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

महिलाओं ने बाइक पर सवार होकर की 21 देशों की सफल यात्रा, कठिन चुनौतियों के बाद भी डिगा नहीं फैसला     |     CJI शरद अरविंद बोबडे ने कहा, बदले की भावना से किया गया इंसाफ न्‍याय नहीं     |     उन्नाव की बिटिया की मौत पर यूपी में सियासी बवाल, कांग्रेस ने घेरा भाजपा मुख्यालय; पुलिस ने फटकारी लाठी     |     दर्द से कराहती उन्नाव पीड़िता की हालत देख रो पड़े थे सारे डॉक्टर     |     SC पहुंचा हैदराबाद एनकाउंटर मामला, वकीलों ने पुलिस के खिलाफ दायर की याचिका     |     जिंदगी की जंग हार गई उन्नाव बलात्कार पीड़िता, आखिरी शब्द थे- बच तो जाऊंगी न, मरना नहीं चाहती     |     उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद भाई ने मांगा न्याय, कहा- बहन की तरह आरोपियों को भी जिंदा जलाओ     |     उन्नाव कांड: प्रियंका बोलीं- हमारी नाकामयाबी, पीड़िता को नहीं मिला न्याय     |     महिला डॉक्टर को 10 दिन में मिला इंसाफ, पिता बोले- अब मेरी बेटी की आत्मा को मिलेगी शांति     |     रामजन्मभूमि पर फैसले के खिलाफ मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड सुप्रीम कोर्ट में आज दाखिल करेगा रिव्यू पिटीशन     |